Saturday, July 31, 2010

अंतरा माली की वापसी


अंतरा माली तो याद ही होगी आपको. और अगर भूल गए हों ,तो हम याद दिलाए देते हैं. हम उन्हीं अंतरा माली की बात कर रहे हैं, जो एक जमाने में रामगोपाल वर्मा की सबसे चहेती नायिका हुआ करती थी. अभिनय तो इन्हें आता नहीं, लेकिन अंग प्रदर्शन के मामलें में हौसला इतना कि शर्लीन चैपड़ा और राखी सावंत को भी पीछे छोड़ दे. रामू के साथ अंतरा माली ने मस्त, कंपनी, रोड़, डरना मना है, मैं माधुरी दीक्षित बनना चाहती हूं, नाच जैसी आधा दर्जन से भी ज्यादा नाकाम फिल्मों में काम किया था. ये सब फिल्में टिकट खिड़की पर औंधे मूंह गिरी थी, लेकिन फिर भी वे अपनी खूबसूरती के बूते रामू की चहेती बनी रही. यह अलग बात है कि अंतरा माली के चक्कर में पढ़कर रामू के अच्छे-भले कॅरिअर का भी सत्यानाश हो गया. जहां तक अंतरा की बात है तो वे आखिरी बार 2005 में आई फिल्म मिस्टर या मिस में नजर आई थी. इस पिक्चर को उन्होंने रामू के साथ मिलकर बनाया भी था, लेकिन नतीजा वही रहा ढाक के तीन पात. इस पिक्चर की नाकामी के बाद अंतरा माली ने भी इंडस्ट्री को अलविदा कह दिया.
लेकिन पांच साल बाद अब अंतरा की बात इसलिए हो रही है, क्योंकि मोहतरमा एक बार फिर फिल्मों में वापसी कर रही है. जी नहीं, वे रामू के साथ पिक्चर नहीं कर रही है-बेचारे रामू में अब इतना साहस भी नहीं बचा है कि वे एक और प्लाप फिल्म सहन कर सके-बल्कि इस बार तो वे अमोल पालेकर के साथ नजर आएंगी. वहीं अमोल पालेकर, जिन्होंने पहेली जैसी आर्ट फिल्म बनाकर शाहरूख खान जैसे सितारे के कॅरिअर का भी बंटाढार कर दिया था. उन्हीं पालेकर के निर्देशन में अंतरा एंड वंस अगेन नामक एक अंग्रेजी फिल्म में नजर आने वाली है. खास बात यह भी है कि इस फिल्म में अंतरा बोध धर्म की अनुयायी की भूमिका में नजर आएंगी, जिसके लिए उन्होंने अपना सिर भी गंजा करवा लिया है. इस बारे में अंतरा कहती है कि कुछ अलग कर दिखाने के जज्बे के साथ वे इस फिल्म से जुड़ी है.
अब रामगोपाल वर्मा जैसे निर्देशक के साथ तो अंतरा का भला हो नहीं पाया, देखते हैं पहले से हीे पिटे-पिटाए अमोल पालेकर उनके कॅरिअर के साथ क्या करते हैं ?

3 comments:

  1. chaliye dekhte hain ki kya hota hai Antara ka. :-)

    ReplyDelete
  2. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "हिन्दप्रभा" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  3. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "हिन्दप्रभा" (Hindprabha) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete